Recently on TheGitaTamil

அத்தியாயம் ௭ - ஸ்லோகம் ௨௰௮

அத்தியாயம் ௭ - ஸ்லோகம் ௨௰௮

TheGitaTamil_7_28
Find the same shloka below in English and Hindi.
TheGita – Chapter 7 – Shloka 28

Shloka 28

O Arjuna, there are, however, some pious people whose sins have been destroyed and are free from all worldly attachments, who worship Me with a firm, undeluded mind.

परन्तु निष्काम भाव से श्रेष्ठ कर्मों का आचरण करने वाले जिन पुरुषों का पाप नष्ट हो गया है, वे राग द्बेष जनित द्बन्द्ब रूप मोह से मुक्त्त दृढ़ निश्चयी भक्त्त मुझ को सब प्रकार से भजते हैं ।। २८ ।।

The Gita in Sanskrit, Hindi, Gujarati, Marathi, Nepali and English – The Gita.net