Recently on TheGitaTamil

அத்தியாயம் ௰௨ - ஸ்லோகம் ௰௫

அத்தியாயம் ௰௨ - ஸ்லோகம் ௰௫

TheGitaTamil_12_15
Find the same shloka below in English and Hindi.

TheGita – Chapter 12 – Shloka 15

Shloka 15

He who does not harm anyone in the world and from whom the world is not agitated, and he who knows no joy, envy, fear and anxiety, that devotee is dear to me.

जिससे कोई भी जीव उद्बेग को प्राप्त नहीं होता और जो स्वयं भी किसी उद्बेग को प्राप्त नहीं होता, तथा जो हर्ष, अमर्ष, भय और उद्बेगादि से रहित हैं वह भक्त मुझ को प्रिय हैं ।। १५ ।।

The Gita in Sanskrit, Hindi, Gujarati, Marathi, Nepali and English – The Gita.net