Recently on TheGitaTamil

அத்தியாயம் ௰௩ - ஸ்லோகம் ௨௰௭

அத்தியாயம் ௰௩ - ஸ்லோகம் ௨௰௭

TheGitaTamil_13_27
Find the same shloka below in English and Hindi.

TheGita – Chapter 13 – Shloka 27

Shloka 27

He who beholds the imperishable Supreme Lord, existing equally in all perishable beings, realizes the truth.

जो पुरुष नष्ट होते हुए इस चराचर भूतों में परमेश्वर को नाशरहित और समभाव से स्थित देखता हैं, वही यथार्थ देखता हैं ।। २७ ।।

The Gita in Sanskrit, Hindi, Gujarati, Marathi, Nepali and English – The Gita.net