Recently on TheGitaTamil

அத்தியாயம் ௰௩ - ஸ்லோகம் ௩௰௧

அத்தியாயம் ௰௩ - ஸ்லோகம் ௩௰௧

TheGitaTamil_13_31
Find the same shloka below in English and Hindi.

TheGita – Chapter 13 – Shloka 31

Shloka 31

The Supreme Self without beginning, without qualities, imperishable, though dwelling in the body, O Arjuna, neither acts nor is attached to any action.

हे अर्जुन ! अनादि होने से और निर्गुण होने से यह अविनाशी परमात्मा शरीर में स्थित होने पर भी वास्तव में न तो कुछ करता है और न लिप्त ही होता है ।। ३१ ।।

The Gita in Sanskrit, Hindi, Gujarati, Marathi, Nepali and English – The Gita.net