Recently on TheGitaTamil

அத்தியாயம் ௰௩ - ஸ்லோகம் ௩௰௨

அத்தியாயம் ௰௩ - ஸ்லோகம் ௩௰௨

TheGitaTamil_13_32
Find the same shloka below in English and Hindi.

TheGita – Chapter 13 – Shloka 32

Shloka 32

As the all pervading ether (sky) is not affected, by reasons of subtlety, so the Self (soul) seated in the body is not affected.

जिस प्रकार सर्वत्र व्याप्त आकाश सूक्ष्म होने के कारण लिप्त नहीं होता, वैसे ही देह में सर्वत्र स्थित आत्मा निर्गुण होने के कारण देह के गुणों से लिप्त नहीं होता ।। ३२ ।।

The Gita in Sanskrit, Hindi, Gujarati, Marathi, Nepali and English – The Gita.net